होम

वर्ष 1 9 78 में स्थापित, यह विभाग अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, विकलांग व्यक्तियों, महिलाओं और बच्चों के कल्याण और समाज के अन्य कमजोर वर्गों के लिए जिम्मेदार है। विभाग युवा न्याय अधिनियम के तहत एक नारीनिकेशन, एक किशोर गृह का प्रबंधन कर रहा है।

अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के कल्याण, पोषण के लिए महिलाओं के लिए डाक वितरण वित्तीय सहायता भी शामिल है; एस.सी. के लिए स्कूल वर्दी के सिलाई प्रभार, मेरिटोरिअरी एससी और ओबीसी छात्रों के लिए निशुल्क शिक्षा; अपनी बेटी अपना धन; अनुसूचित जाति के लिए छुट्टी शिविर; अंतर जाति विवाह के लिए प्रोत्साहन; झागियों और झुग्गी क्षेत्रों में रहने वाले बच्चों के बीच कौशल का विकास; बाबा साहब के जीवन, मिशन और कार्य पर संगोष्ठी। बी। आर। अम्बेडकर, अत्याचार के शिकार लोगों के मौद्रिक राहत / पुनर्वास; पीसीआर अधिनियम, अनुसूचित जातियों के लिए आवास योजना (डा। अम्बेडकर आवास योजना) आदि के प्रवर्तन के लिए मशीनरी को मजबूत बनाना।

सामाजिक सुरक्षा और महिलाओं और बच्चों के कल्याण के लिए, कार्य माताओं के बच्चों के लिए क्रेव जैसी योजनाएं हैं; आंगनवाड़ी केंद्र का निर्माण; दुर्व्यवहार / उपेक्षित बच्चों के लिए गृह; देखभाल और सुरक्षा की आवश्यकता वाले बच्चों; विधवाओं / विकलांग महिलाओं के लिए वित्तीय सहायता; नारीनिकेशन इत्यादि

विकलांगों के लिए, पेट्रोल / डीजल पर सब्सिडी; प्रोस्थेटिक सहायता, बेरोजगारी भत्ता; कम्प्यूटर और ब्यूटी कल्चर आदि में नि: शुल्क वोकेशनल ट्रेनिंग लागू की जा रही है। आयु वर्ग के लिए वृद्धावस्था पेंशन की योजना लागू की जा रही है और वरिष्ठ नागरिकों को पहचान पत्र भी जारी किए जा रहे हैं। मृतक सरकार के परिवार को पूर्व-अनुग्रह भुगतान इस विभाग द्वारा नौकरों को जारी किया जा रहा है वृद्धों को आश्रय प्रदान करने के लिए केंद्र सरकार चंडीगढ़ में निम्नलिखित संस्थान कार्यरत हैं: -

  • एक सीनियर सिटिज़न होम की स्थापना सेक्टर 43, चंडीगढ़ है, जिसका प्रबंधन चंडीगढ़ बाल एवं महिला विकास निगम द्वारा किया जा रहा है।
  • शासकीय क्षेत्र में सेक्टर 15, चंडीगढ़ में पुराने और निराश्रित लोगों के लिए एक घर कार्यरत है। भवन जो कि लायंस क्लब चंडीगढ़ (मध्य) द्वारा प्रबंधित किया जा रहा है।

Digital India Program

Indian Government

Tribal Affairs

Social Justice

Back to Top